आप जानते है सांस लेने का सही तरीका जानें क्‍या गलत‍ियां नहीं करनी चाह‍िए

Health & Fitness

घटती है प्रतिरोधक क्षमता

आपने कभी गौर से देखा है क‍ि नन्हे शिशु धीरे-धीरे, गहरी सांसें लेते हैं। फिर ज्यों-ज्यों हम बड़े होते जाते हैं, वैसे-वैसे हमारी सांसें भी तेज चलने लगती हैं और हमारी कोशिकाओं तक ढंग से ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती है। इस कारण हमारा स्ट्रेस-रिस्पॉन्स सिस्टम भी ज्यादा सक्रिय हो जाता है। नतीजतन, हमारी रोग-प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है और कई तरह के रोग हमें आ घेरते हैं।

फेफड़े की क्षमता का पूरा इस्तेमाल नहीं

फेफड़े की क्षमता का पूरा इस्तेमाल नहीं

कई र‍िसर्च में साबित हुआ है क‍ि आधुनिक जीवनशैली में पला-बढ़ा दुनिया का हर इंसान गलत तरीके से सांस ले रहा है। शोध में पाया गया कि आधुनिक मनुष्य अपने फेफड़ों की, सांसों को भरने की क्षमता का केवल 30 प्रतिशत ही उपयोग कर रहा है। बाकी की 70 प्रतिशत क्षमता प्रयोग में न आने की वजह से बेकार ही रह जाती है।

धीरे-धीरे लें सांस

धीरे-धीरे लें सांस

बहुत जल्दी-जल्दी व तेजी से सांस लेने से हवा आपके शरीर में ठीक से पहुंच नहीं पाती है। इसलिए आप जो भी काम करें, सांस धीरे-धीरे व गहरी लें। हवा को पेट में महसूस करते हुए सांसों को खींचें। आप जितनी ज्यादा ऑक्सीजन खींचेंगे, आपका शरीर उतना ही स्वस्थ रहेगा। इसलिए प्रदूषण वाली जगह पर जाने से बचें और ऐसी जगह रहें जहां शुद्ध हवा हो।

मुंह से सांस लेना गलत

मुंह से सांस लेना गलत

कई लोग मुंह से सांस लेते हैं। जब आप ऐसा करते हैं, तो फेफड़ों में जाने वाली ज्यादातर हवा फिल्टर नहीं हो पाती है। जबकि नाक से सांस लेने में हवा अच्छी तरह फिल्टर हो जाती है। मुंह से सांस लेने के दौरान कई तरह के वायरस और बैक्टीरिया आपके शरीर में प्रवेश कर जाते हैं।

सही तरीके से सांस लेने के लाभ

सही तरीके से सांस लेने के लाभ

-इससे आपका शरीर अधिक मात्रा में कैलोरीज बर्न करता है।

-इससे आपका मानसिक तनाव कम हो जाता है।

-इससे खाने के पोषक तत्व शरीर के सभी अंगों तक पहुंचते हैं, जिससे आप सेहतमंद रहते हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *