जहर नहीं फायदेमंद भी होता है मैदा, इस तरह खाएंगे तो शरीर नहीं पहुंचेगा नुकसान

Health & Fitness

गेंहू से ही बनता है मैदा

सबसे पहले आपको बता दें कि मैदा गेहूं से ही बनता है। गेहूं को रिफाइंड कर उसका छिलका हटाकर मैदा बनाया जिससे उसमें से फाइबर खत्म जाता है। फिर इसके बाद इसे benzoyl peroxide ब्‍लीच किया जाता है जिससे इसको सफेद रंग और टेक्‍सचर दिया जाता है।

पेट में चिपक सकता है

पेट में चिपक सकता है

रोज – रोज मैदा का सेवन करना जरुर हानिकारक हो सकता है। ये बहुत ही महीन होता है, जिससे ये पेट में चिपक जाता है। इस कारण मैदे से कई बीमारियां हो सकती हैं। लेकिन अगर आप कम मात्रा में मैदा का इस्तेमाल करते हैं तो इससे होने वाले नुकसान से हम बच सकते है। हम हम आपको बताते हैं कुछ ऐसी ट्रिक्स (tricks ) जिससे मैदा खाकर भी आपके शरीर को नुकसान नहीं होगा।

न करें फ्राय

न करें फ्राय

मैदा इसलिए भी ज्यादा नुकसान करता है क्योंकि इससे बनने वाली ज्यादातर चीजों को डीप फ्राई (deep fry) किया जाता है। इसको तेल में तलने की बजाय अगर आप एयर-फ्राइंग (air fry), स्टीमिंग (steam) या बॉयल(boil) करेंगे तो ये नुकसान नहीं करेगा। जैसे तले हुए मोमोज की तुलना में स्‍टीम मोमोज ज्‍यादा फायदेमंद होते है। जब भी आप मैदा की कोई डिश बनाए उसमें मैदे के साथ कोई हाई फाइबर (high fiber) आटा जैसे गेहूं, सूजी, बाजरा, ज्वार मिला सकते है। समोसे या कचोड़ी बनाते समय आप इसके आटे में अन्य कोई फाइबर युक्त आटा मिला दें। तो ये नुकसान नहीं करेगा।

कैक में जरा सोच समझकर करें इस्‍तेमाल

बाहर के केक(cake), बिस्कुट(biscuit) और कुकी(cookie) खाने से बेहतर हैं कि आप घर में इन्हें बनाएं और शक्‍कर की मात्रा कम रखें। मैदा और चीनी एक साथ खाने से आपके शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। साथ ही केक या बिस्‍कुट बनाते समय मैदा के साथ कोई दूसरा आटा बराबर मात्रा में मिलाकर बनाएं। जैसे आप ओट्स और मैदा मिलाकर एक शानदर ओट्स केक भी बना सकते हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *