पीली की जगह खाकर देखिएं काली हल्दी, इसमें छिपा है गुणों का खजाना

Health & Fitness

Wellness

oi-Seema Rawat

|

ये बात तो हम सभी जानते हैं कि हल्दी हमारी सेहत के लिए कितनी फायदेमंद है। आज तक आपको सिर्फ ये पता होगा कि पीली हल्दी ही होती है लेकिन क्या आपको पता है काली हल्दी भी होती है और भी हमारे भारत में ही? काली हल्दी के ढेरों फायदे हैं, जिसके बारे में हम आज आपको बताएंगे। काली हल्दी के फायदे जानने के बाद हम ये दावे के साथ कह सकते हैं कि आप भी इसका इस्तेमाल करने लगेंगे।

काली हल्दी में एंटी ऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते है। इसका इस्तेमाल कैंसर के इलाज में भी होता है। काली हल्दी के पौधे को Curcuma Caesia के नाम से जाना जाता है। ये केवल पकाने में ही नहीं बल्कि दवाइयों के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। इसमें एंटी बायोटिक के गुण बी काफी ज्यादा होते हैं। इसके साथ ही ये हल्दी आपको स्किन से जुड़ी बीमारियों जैसे खुजली, मोच और घाव को ठीक करने के लिए बी किया जाता है। इसे आप चाहें तो दूध में मिक्स करके भी लगा सकते हैं।

लिवर

ये आपके लिवर को डिटॉक्स करने का काम करती है। साथ ही आपके लिवर से संबंधित कई सारी बीमारियों से भी बचाता है। इसके सेवन से अल्सर की समस्या भी दूर होती है।

सूजन

शरीर के सूजन को कम करने के लिए भी हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जो कि मालक्यूल को ब्लॉक करके सूजन को कम करता है।

black turmeric with medicinal properties

पीरियड्स

अगर आपको अनियमित पीरियड्स की परेशानी है तो इसके लिए आप काली हल्दी को कुछ दिन तक दूध में मिलाकर पिएं। इससे आपकी ये परेशानी खत्म हो जाएगी।

कैंसर

चीनी चिकित्सा में काली हल्दी का इस्तेमाल कैंसर का इलाज करने के लिए किया जाता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, नियमित इसका सेवन करने से कोलन कैंसर का खतरा भी काफी कम रहता है।

ऑस्टियोआर्थराइटिस

ये जोड़ों में दर्द और जकड़न पैदा करने वाली बीमारी है, जो आपकी हड्डियों के आर्टिकुलर कार्टिलेज को नुकसान पहुंचाती है। वहीं, हल्दी में इबुप्रोफेन होता है, जो इससे बचाव में कारगर है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *