सामने आया कोरोना का ट्रिपल म्यूटेशन, नए वेरिंएंट ने बढ़ाई कोरोना की रफ्तार

Health & Fitness

क्या है ट्रिपल म्यूटेशन

कुछ समय पहले तक डबल म्यूटेशन सामने आया था, जो कि दो स्ट्रेन से बनकर तैयार हुआ था। इसके बाद अब ट्रिपल म्यूटेशन सामने आया है। वैज्ञानिको का मानना है कि म्यूटेशन ना केवल भारत बल्कि दुनिया भर में संक्रमण फैला रहा है। ट्रिपल म्यूटेशन डबल म्यूटेशन से अधिक खतरनाक साबित हो सकता है।

कोरोना वायरस के 5 सबसे भंयकर लक्षण, न करें नजरअंदाज- तुरंत करवाएं कोविड टेस्ट और जाएं अस्पतालकोरोना वायरस के 5 सबसे भंयकर लक्षण, न करें नजरअंदाज- तुरंत करवाएं कोविड टेस्ट और जाएं अस्पताल

पहले से ही खतरनाक है डबल म्यूटेंट वेरिएंट

पहले से ही खतरनाक है डबल म्यूटेंट वेरिएंट

नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ने नए वेरिएंट डबल म्यूटेंट की जानकारी कुछ महीने पहले दी थी। डबल वेरिएंट में दो तरह के म्यूटेंट है जो कि वायरस का वो रुप है जिसके जीनोम में दो बार बदलाव हो चुका है। ऐसे में वायरस खुद को लंबे समय तक प्रभावी रखने के लिए जेनेटिक संरचना में बदलाव लाते है ताकि उन्हें खत्म ना किया जा सके। डबल म्यूटेशन बेहद खतरनाक माना जा रहा है। अब ट्रिपल म्यूटेंट की बात सामने आ रही है, जो कि काफी घातक साबित हो सकता है।

Covid Vaccine: जानिए वैक्सीनेशन से पहले क्या खाएं और क्या नहीं?Covid Vaccine: जानिए वैक्सीनेशन से पहले क्या खाएं और क्या नहीं?

वैक्सीनेशन

वैक्सीनेशन

कोरोना वायरस को रोकने के लिए देशभर में 16 जनवरी से वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई थी। पहले स्वास्थय कर्मियो को वैक्सीन दिया गया वहीं दो फरवरी से 60 से अधिक उम्र के लोगों वा गंभीर स्वास्थय बीमारी वाले को वैक्सीन लगाई गई है। एक मार्च से 45 से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन का टीका लगाया गया है। एक मई से 18 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को टीका लगाया जाएगा।

कोरोना से बचने का आसान तरीका है डबल मास्किंग, जानें इसे पहनते समय क‍िन बातों का रखें ध्‍यानकोरोना से बचने का आसान तरीका है डबल मास्किंग, जानें इसे पहनते समय क‍िन बातों का रखें ध्‍यान

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *