सुशांत का कुक Farhan Akhter के घर में करता है काम? एक्टर ने बताई सच्चाई

मनोरंजन

नई दिल्ली: कुछ खबरों में पिछले दिनों दावा किया जा रहा था कि अभिनेता फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) के घर पर वही शख्स बतौर रसोइया काम करता है, जो पहले अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के घर में काम किया करता था. फरहान ने इस बात को नकार दिया है. यहां सुशांत के कुक केशव की बात की जा रही है. फरहान ने ट्वीट कर इन दावों को सिरे से खारिज कर दिया है.

फरहान अख्तर का ट्वीट
फरहान अख्तर ने गुरुवार को ट्वीट किया, ‘जानकारी के लिए बता दूं कि मेरे घर पर केशव नाम का कोई इंसान काम नहीं करता है. यह एक फर्जी न्यूज चैनल द्वारा फैलाया गया एक और झूठ है, जो झूठी खबरें दिखाने के लिए मशहूर है. प्लीज इतना भोला बनना बंद कर दीजिए. सिर्फ इसलिए कि एक इंसान टीवी पर चिल्लाता रहता है, इसका मतलब यह नहीं कि उसकी बातें सच हैं.’

फरहान का करारा जवाब
फरहान का यह जवाब एक यूजर के ट्वीट पर आया, जिसने लिखा था, ‘बेक्रिंग न्यूज..नीरज, सारा अली खान के घर पर है और केशव, फरहान के घर पर काम करता है, लेकिन ये लोग संदिग्धों को काम पर रख ही क्यों रहे हैं?’ जहां फरहान की तरफ से इन दावों का खंडन कर दिया गया है, वहीं सारा की तरफ से इस पर अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. केशव, सुशांत के बांद्रा स्थित अपार्टमेंट में कुक के तौर पर काम करता था.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें

/*************************************/ /*$(window).scroll(function(){ var last = $('div.listing').filter('div:last'); var lastHeight = last.offset().top ; if(lastHeight + last.height() < $(document).scrollTop() + $(window).height() && nextload==true){ //console.log("**get data"); var circle = ""; var myTimer = ""; var interval = 30; var angle = 0; var Inverval = ""; var angle_increment = 6; $.ajax({ url: "/hindi/news/article-list.php" + cat + nextpath, async: true, dataType: "json", beforeSend: function() { $('div.listing').append(load); nextload=false; //console.log("/micros/article-list.php" + cat + nextpath); ice = 1; circle = $('.center-section').find('#green-halo'); myTimer = $('.center-section').find('#myTimer'); angle = 0; Inverval = setInterval(function (){ $(circle).attr("stroke-dasharray", angle + ", 20000"); //myTimer.innerHTML = parseInt(angle/360*100) + '%'; if (angle >= 360) { angle = 1; } angle += angle_increment; }.bind(this),interval); }, success: function(data){ nextload=false; //console.log("success"); //console.log(data); $.each(data['rows'], function(key,val){ //console.log("data found"); ice = 2; if(val['id']!='758089'){ string = '

' + val["title"] + '

' + val["summary"] + '

'; $('div.listing').append(string); } }); }, error:function(xhr){ //console.log("Error"); //console.log("An error occured: " + xhr.status + " " + xhr.statusText); nextload=false; }, complete: function(){ $('div.listing').find(".loading-block").remove();; pg +=1; //console.log("mod" + ice%2); nextpath = '&page=' + pg; //console.log("request complete" + nextpath); cat = "?cat=29"; //console.log(nextpath); nextload=(ice%2==0)?true:false; } }); setTimeout(function(){ //twttr.widgets.load(); //loadDisqus(jQuery(this), disqus_identifier, disqus_url); }, 6000); } //lastoff = last.offset(); //console.log("**" + lastoff + "**"); });*/ /*$.get( "/hindi/zmapp/mobileapi/sections.php?sectionid=17,18,19,23,21,22,25,20", function( data ) { $( "#sub-menu" ).html( data ); alert( "Load was performed." ); });*/

function fillElementWithAd($el, slotCode, size, targeting){ googletag.cmd.push(function() { googletag.pubads().display(slotCode, size, $el); }); } var maindiv = false; var dis = 0; var fbcontainer = ''; var fbid = ''; var ci = 1; var adcount = 0; var pl = $("#star758089 > div.field-name-body > div.field-items > div.field-item").children('p').length; var adcode = inarticle1; if(pl>3){ $("#star758089 > div.field-name-body > div.field-items > div.field-item").children('p').each(function(i, n){ ci = parseInt(i) + 1; t=this; var htm = $(this).html(); d = $("

"); if((i+1)%3==0 && (i+1)>2 && $(this).html().length>20 && ci