Bigg Boss 14: अरे ये क्या? कविता कौशिक ने रुबीना दिलाइक को कहा ‘कलेशी इंसान’

मनोरंजन

नई दिल्ली: बुधवार रात बिग बॉस (Bigg Boss) के घर में खूब हंगामा मचा. मंगलवार से ही घर में कैप्टेंसी टास्क शुरू हो चुका है. घर का नया कैप्टन बनने के लिए हर कोई अपनी जी-जान लगा रहा है. इसी टास्क के बीच में घर में इतनी लड़ाई हुई जिसने दर्शको को एक पल के लिए भी बोर नहीं होने दिया. इस खास रिपोर्ट में जानिए कि बुधवार रात इस शो में क्या-क्या हुआ.

‘बिग बॉस 14’ (Bigg Boss 14) के आज के एपिसोड में एक बार फिर से पवित्रा पुनिया और एजाज खान एक-दूसरे के बारे में सोचने लगे हैं. निक्की तम्बोली जमकर एजाज खान की टांग खीचने में लगी हैं और वो एक तरह से दोनों के लिए बीच क्यूपिड का काम कर रही हैं. पवित्रा पुनिया ने भी जान कुमार सानू से बात करते हुए अपने दिल की बात उनसे कही. जान कुमार ने कहा कि आप दोनों ही मन ही मन में एक-दूसरे को एक्सेप्ट कर चुके हो.

कविता कौशिक और रुबीना दिलाइक के बीच लड़ाई
कविता कौशिक जबसे घर की कैप्टन बनी हैं, तभी से रुबीना दिलाइक उनसे दोस्ती बढ़ाती हुई नजर आ रही हैं. आज के एपिसोड में इस दोस्ती के बीच दरार आते नजर आई. दोनों के बीच फल काटने को लेकर बड़ी बहस हो गई. बहसबाजी के बीच ही कविता कौशिक रुबीना दिलाइक को कलेशी इंसान कह देती हैं. 

कैप्टेंसी टास्क के बीच ही जैस्मिन भसीन और राहुल वैद्य की लड़ाई इतनी बढ़ जाती है कि हर कोई दंग रह जाता है. राहुल वैद्य आउट ऑफ कंट्रोल होकर जैस्मिन भसीन को भद्दी गालियां भी देने लगते हैं. 

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें 

लोडिंग

'; var cat = "?cat=570880";

/*************************************/ /*$(window).scroll(function(){ var last = $('div.listing').filter('div:last'); var lastHeight = last.offset().top ; if(lastHeight + last.height() < $(document).scrollTop() + $(window).height() && nextload==true){ //console.log("**get data"); var circle = ""; var myTimer = ""; var interval = 30; var angle = 0; var Inverval = ""; var angle_increment = 6; $.ajax({ url: "/hindi/news/article-list.php" + cat + nextpath, async: true, dataType: "json", beforeSend: function() { $('div.listing').append(load); nextload=false; //console.log("/micros/article-list.php" + cat + nextpath); ice = 1; circle = $('.center-section').find('#green-halo'); myTimer = $('.center-section').find('#myTimer'); angle = 0; Inverval = setInterval(function (){ $(circle).attr("stroke-dasharray", angle + ", 20000"); //myTimer.innerHTML = parseInt(angle/360*100) + '%'; if (angle >= 360) { angle = 1; } angle += angle_increment; }.bind(this),interval); }, success: function(data){ nextload=false; //console.log("success"); //console.log(data); $.each(data['rows'], function(key,val){ //console.log("data found"); ice = 2; if(val['id']!='775071'){ string = '

' + val["title"] + '

' + val["summary"] + '

'; $('div.listing').append(string); } }); }, error:function(xhr){ //console.log("Error"); //console.log("An error occured: " + xhr.status + " " + xhr.statusText); nextload=false; }, complete: function(){ $('div.listing').find(".loading-block").remove();; pg +=1; //console.log("mod" + ice%2); nextpath = '&page=' + pg; //console.log("request complete" + nextpath); cat = "?cat=570880"; //console.log(nextpath); nextload=(ice%2==0)?true:false; } }); setTimeout(function(){ //twttr.widgets.load(); //loadDisqus(jQuery(this), disqus_identifier, disqus_url); }, 6000); } //lastoff = last.offset(); //console.log("**" + lastoff + "**"); });*/ /*$.get( "/hindi/zmapp/mobileapi/sections.php?sectionid=17,18,19,23,21,22,25,20", function( data ) { $( "#sub-menu" ).html( data ); alert( "Load was performed." ); });*/

function fillElementWithAd($el, slotCode, size, targeting){ googletag.cmd.push(function() { googletag.pubads().display(slotCode, size, $el); }); } var maindiv = false; var dis = 0; var fbcontainer = ''; var fbid = ''; var ci = 1; var adcount = 0; var pl = $("#star775071 > div.field-name-body > div.field-items > div.field-item").children('p').length; var adcode = inarticle1; if(pl>3){ $("#star775071 > div.field-name-body > div.field-items > div.field-item").children('p').each(function(i, n){ ci = parseInt(i) + 1; t=this; var htm = $(this).html(); d = $("

"); if((i+1)%3==0 && (i+1)>2 && $(this).html().length>20 && ci