Kangana Ranaut ने सुप्रीम कोर्ट से लगाई गुहार, कहा- हिमाचल प्रदेश ट्रांसफर करें केस

मनोरंजन

नई दिल्ली: बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) और उनकी बहन रंगोली चंदेल (Rangoli Chandel) ने मुंबई में उन पर चल रहे तीन आपराधिक मामलों को महाराष्ट्र से हिमाचल प्रदेश ट्रांसफर करने की सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई है. इसके लिए उन्होंने ट्रांसफर पिटिशन दायर की है. 

शिवसेना से कंगना की जान को खतरा?

कंगना (Kangana Ranaut) और रंगोली (Rangoli Chandel) पर सोशल मीडिया से जुड़े कठोर और आपत्तिजनक टिप्पणियां करने के तीन मामले चल रहे हैं. इस पर कंगना ने कहा है कि मुंबई में उनकी जान को शिवसेना से खतरा है. ऐसे में अगर मुकदमों के ट्रायल मुंबई में होंगे तो शिवसेना के नेता अपनी भड़ास निकालने के लिए कोई भी कदम उठा सकते हैं. कंगना रनौत की बहन रंगोली ने इसके लिए वकील नीरज शेखर से सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर पिटिशन दर्ज कराई है.

ये हैं वो तीन मामले

बता दें, मुंबई में एक आपराधिक मामला वकील अली कासिफ खान ने दर्ज कराया था. वहीं दूसरा मामला जावेद अख्तर (Javed Akhtar) की ओर से आपराधिक अवमानना करने को लेकर दायर किया गया था. वहीं तीसरा मामला कास्टिंग डायरेक्टर मुनव्वर अली सैय्यद ने कंगना और उनकी बहन के खिलाफ दर्ज कराया था. 

कंगना के खिलाफ जारी हुआ था वारंट

जावेद अख्तर (Javed Akhtar) की ओर से दायर आपराधिक अवमानना मामले में कंगना (Kangana Ranaut) के खिलाफ वारंट जारी किया गया था. यह वारंट बार-बार पूछताछ के लिए पुलिस स्टेशन बुलाए जाने के बाद भी कंगना के हाजिर न होने की वजह से जारी किया गया था.

कंगना अक्सर देती हैं ऐसे बयान

बता दें, कंगना रनौत (Kangana Ranaut) अक्सर अपनी बातों को लेकर विवादों में घिर जाती हैं. कंगना सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और वे आए दिन सोशल मीडिया पर अपने तीखे बोल बोलती रहती हैं. वे बीते दिनों ट्विटर सीईओ से भिड़ गई थीं. उन्होंने जैक डोर्से को भी खूब खरी-खोटी सुनाई. वहीं कंगना का बीएमसी से पंगा भी खूब सुर्खियों में रहा. 

ये भी पढ़ें:Akshay Kumar ने किया फिल्म ‘Tadap’ की रिलीज डेट का ऐलान, शेयर किया पोस्टर

एंटरटेनमेंट की लेटेस्ट और इंटरेस्टिंग खबरों के लिए यहां क्लिक कर Zee News के Entertainment Facebook Page को लाइक करें

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *